30-31 August 2020 : करंट अफेयर्स (Current Affairs 2020)

नौसेना के लिए 55,000 करोड़ रुपए से 6 पनडुब्बियां खरीदने की तैयारी, अक्टूबर में होगा सौदा

  • चीन के बढ़ते नौसेना कौशल के साथ अंतर को कम करने के लिए भारत छह पारंपरिक पनडुब्बियां खरीदेगा।
  • भारतीय नौसेना के लिए 55,000 करोड़ रुपए लागत से इन पनडुब्बियों के निर्माण के मेगा प्रोजेक्ट के लिए अगले महीने तक बोली प्रक्रिया शुरू करने की तैयारी है।
  • सूत्रों के अनुसार, इस मेगा प्रोजेक्ट को ‘पी -75 आई’ नाम दिया गया है।
  • रक्षा मंत्रालय ने प्रोजेक्ट के लिए पहले ही दो भारतीय शिपयार्ड और पांच विदेशी रक्षा निर्माताओं को शॉर्टलिस्ट किया है। इसे सबसे बड़े ‘मेक इन इंडिया’ उपक्रमों में शामिल किया गया है।
  • शॉर्टलिस्ट की गई भारतीय इकाइयां एलएंडटी ग्रुप और सरकार के स्वामित्व वाली मझगांव डॉक लि. (एमडीएल) हैं, जबकि चुनिंदा विदेशी संस्थाओं में थिसेनकृप मरीन सिस्टम्स (जर्मनी), नवैन्टिया (स्पेन) और नेवल ग्रुप (फ्रांस) हैं।
  • गौरतलब है कि‍ नौसेना ने अपनी पानी के नीचे की लड़ाई की ताकत को बढ़ाने के लिए छह परमाणु पनडुब्बियों सहित 24 नई पनडुब्बियों को खरीदने की योजना बनाई है।
  • वर्तमान में इसमें 15 पारंपरिक पनडुब्बियां और दो परमाणु पनडुब्बियां हैं।
  • इसके साथ ही रक्षा मंत्रालय ने अगले पांच वर्षों में रक्षा विनिर्माण में 1.75 लाख करोड़ रुपए के टर्नओवर का लक्ष्य रखा है, जिसमें 35,000 करोड़ रुपए का निर्यात लक्ष्य शामिल है।
  • अंतरराष्ट्रीय नौसेना विश्लेषकों के अनुसार, चीनी नौसेना के पास वर्तमान में 50 से अधिक पनडुब्बियां और करीब 350 जहाज हैं।
  • वहीं भारतीय नौसेना रणनीतिक भागीदारी मॉडल के तहत 57 कैरियर फाइटर जेट, 111 हेलीकॉप्टर और 123 मल्टी रोल हेलीकॉप्टर खरीदने की प्रक्रिया में है।

बीएसएफ को सीमा पर मिली 170 मीटर लंबी सुरंग, पाकिस्तान से शुरू होकर सांबा तक आती है

  • सीमा सुरक्षा बल (Border Security Force-BSF) ने पाकिस्तान से घुसपैठ और मादक पदार्थों की तस्करी की साजिश नाकाम करते हुए एक सुरंग का पता लगाया है।
  • सुरंग पाकिस्तानी की गुलजार पोस्ट से करीब 700 मीटर की दूरी पर है।
  • यह जम्मू स्थित अंतरराष्ट्रीय सीमा के सांबा सेक्टर में मिली, जो 170 मीटर (450 फीट) लंबी है।
  • इसकी गहराई 25 फीट और व्यास 3-4 फीट है।
  • इसका मुंह बजरी के बैग से बंद किया गया था ताकि किसी को इसका पता न चल सके।
  • बैग पर शकरगढ़, कराची में स्थित सीमेंट फैक्ट्री का नाम अंकित है।
  • सीमा क्षेत्र में इतनी बड़ी सुरंग पाकिस्तान रेंजर्स और दूसरी एजेंसियों की मंजूरी के बिना बन नहीं सकती है।

रिलायंस रिटेल ने 24,713 करोड़ रुपए में खरीदा फ्यूचर ग्रुप का खुदरा-थोक कारोबार

  • मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्री ने फ्यूचर ग्रुप के रिटेल समेत अन्य कारोबार को 24,713 करोड़ रुपए में खरीद लिया है।
  • दोनों कंपनियों के बीच यह सौदा एक विशेष स्कीम के तहत किया गया है, जिसमें फ्यूचर ग्रुप भविष्य में बिजनेस करने वाली कुछ कंपनियों का फ्यूचर एंटरप्राइज लिमिटेड (एफईएल) में विलय कर रहा है।
  • इस योजना के तहत फ्यूचर समूह का खुदरा और थोक कारोबार आरआरवीएल की सहायक कंपनी रिलायंस रिटेल एंड फैशन लाइफस्टाइल लिमिटेड (आरआरएफएलएल) को हस्तांतरित किया जाएगा।
  • आरआरएफएलएल का मालिकाना हक आरआरवीएल के पास है।
  • आरआरएफएलएल द्वारा इसमें प्रीफरेंशियल इक्विटी शेयर इश्यू के तहत एफईएल में 200 करोड़ रुपए निवेश करने का भी प्रस्ताव है।

शतरंज: भारत और रूस ऑनलाइन ओलिंपियाड में संयुक्त चैंपियन, भारत को पहली बार गोल्ड

  • भारत और रूस को फीडे ऑनलाइन चेस ओलिंपियाड में संयुक्त विजेता घोषित किया गया है।
  • यह भारत का ओलिंपियाड में पहला गोल्ड जबकि दूसरा मेडल है। भारत को 2014 में ब्रॉन्ज मिला था।
  • पहला राउंड भारत और रूस के बीच 3-3 से ड्रॉ रहा था। दूसरे राउंड के दौरान भारत के निहाल सरीन और दिव्या देशमुख का ऑनलाइन कनेक्शन ब्रेक हो गया था।
  • रूस को विजेता घोषित कर दिया गया।
  • इसके बाद भारत ने ऑफिशियल अपील की थी।
  • फीडे के अध्यक्ष ने दोनों टीमों को संयुक्त चैंपियन घोषित किया।

खेल पुरस्कारों की राशि में वृद्धि की

  • राष्‍ट्रीय खेल और साहसिक कार्य पुरस्‍कार की 7 श्रेणियों में से 5 श्रेणियों में पुरस्‍कार की राशि बढ़ाई गई है।
  • खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने 29 अगस्त 2020 को राष्‍ट्रीय खेल दिवस पर राजीव गांधी खेल रत्‍न पुरस्‍कार (Rajiv Gandhi Khel Ratna Award) की राशि साढ़े सात लाख रूपए से बढ़ाकर 25 लाख रूपए करने की घोषणा की।
  • अर्जुन पुरस्‍कार और द्रोणाचार्य आजीवन (लाइफटाइम) पुरस्‍कार की राशि 5-5 लाख रूपए से बढ़ाकर 15-15 लाख रूपए की गई है।
  • द्रोणाचार्य नियमित और ध्‍यानचंद पुरस्‍कार की राशि भी पांच-पांच लाख रूपए से बढ़ाकर दस-दस लाख रूपए कर दी गई है।
  • राजीव गांधी खेल रत्न जिसे आधिकारिक तौर पर ‘स्पोर्ट्स एंड गेम्स में राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार’ के रूप में जाना जाता है, भारत गणराज्य का सर्वोच्च खेल सम्मान है।
  • इस पुरस्कार की शुरुआत 1991–92 में हुई थी। यह पुरस्कार युवा कार्यक्रम और खेल मंत्रालय (Ministry of Youth Affairs and Sports) द्वारा प्रतिवर्ष प्रदान किया जाता है।

रानी लक्ष्‍मीबाई केंद्रीय कृषि विश्‍वविदयालय के महाविद्यालय और प्रशासनिक भवन का उद्घाटन

  • प्रधानमंत्री ने वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के माध्यम से 29 अगस्त 2020 को रानी लक्ष्‍मीबाई केंद्रीय कृषि विश्‍वविद्यालय के महाविद्यालय और प्रशासनिक भवन का उद्घाटन किया है।
  • प्रधानमंत्री मोदी ने कहा है कि कृषि क्षेत्र में आत्‍मनिर्भरता का उद्देश्‍य देश में कृषि उत्‍पादों का मूल्‍य संवर्धन करना, देश तथा विश्व में इनका विपणन करना और किसानों को उद्यमी बनाना
  • रानी लक्ष्मी बाई केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय देश का पहला कृषि विश्वविद्यालय है, जिसे भारत सरकार द्वारा संसद के अधिनियम द्वारा राष्ट्रीय महत्व के संस्थान के रूप में 2014 में स्थापित किया गया था।
  • विश्वविद्यालय का मुख्यालय उत्तर प्रदेश राज्य के झांसी में स्थित है।
  • विश्वविद्यालय को कृषि, अनुसंधान और शिक्षा विभाग, कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार, नई दिल्ली द्वारा सीधे वित्त पोषित किया जाता है।

कोच्चि के नौसेना बेस में प्लास्टिक अपशिष्ट निपटान सुविधा का उद्घाटन

  • फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ, दक्षिणी नौसेना कमांड (एसएनसी), वाइस एडमिरल अनिल के चावला, ने 29 अगस्त 2020 को कोच्चि के नौसेना बेस में प्लास्टिक अपशिष्ट निपटान सुविधा का उद्घाटन किया।
  • इस पायलट परियोजना को कोचीन शिपयार्ड लिमिटेड (Cochin Shipyard Limited-CSL) द्वारा एक कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी (सीएसआर) परियोजना के रूप में एर्नाकुलम जिला प्रशासन के माध्यम से, 46 लाख रुपए की लागत से बनाया गया है।
  • इसे स्टील इंडस्ट्रीज केरल लिमिटेड (Steel Industrials Kerala Limited-SIKL) ने बनाया है।
  • इस सुविधा से प्रति घंटे लगभग 150 किलोग्राम प्लास्टिक को रीसाइक्लिंग किया जा सकता है।
  • इस अवसर पर ‘कैलिडोस्कोप– फीचर्स फ्रेंड @ कटारी बाग’ शीर्षक से एक पक्षियों पर पुस्तक का भी विमोचन किया।
  • कटारी बाग में पक्षियों पर पुस्तक का विमोचन करने का उद्देश्य कोच्चि में पर्यावरण पारिस्थितिकी प्रणाली के संदर्भ में जागरूकता उत्पन्न करना है।
  • वाइस एडमिरल चावला के संरक्षण और मार्गदर्शन में कमांडर दिग्विजय सिंह सिकरवार ने कटारी बाग-‘ग्रीन हेवन’ के परिसर में पक्षियों को सूचीबद्ध करने के लिए 3 वर्ष तक अध्ययन किया है।
  • इसके बाद इस शोध को कॉफी टेबल बुक के रूप में ‘कैलिडोस्कोप’ का प्रकाशन किया गया।
  • अध्ययन में कटारी बाग में पक्षियों की 74 विभिन्न प्रजातियां शामिल की गई हैं।
  • इस पुस्तक में कटारी बाग के अंदर ली गई पक्षियों की तस्वीरों को उनकी विशिष्टता के उल्लेख के साथ शामिल किया गया है।

Leave a Reply