करंट अफेयर्स: 27 जून 2020

आत्‍मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोज़गार अभियान की शुरुआत

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 26 जून 2020 को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये ‘आत्मनिर्भर उत्तरप्रदेश रोजगार अभियान’ की शुरुआत की।
  • इस अभियान के जरिये उत्तर प्रदेश में 1.25 करोड़ कामगारों का विभिन्न परियोजनाओं में नियोजन होगा।
  • आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) रोजगार अभियान का लक्ष्य रोजगार प्रदान करने, स्थानीय स्तर पर उद्यमिता को बढ़ावा देने और रोजगार के मौके उपलब्ध कराने के लिए औद्योगिक संगठनों और अन्य संस्थानों को साथ जोड़ना है।
  • उल्लेखनीय है कि 12 मई 2020 को प्रधानमंत्री ने ‘आत्मनिर्भर भारत अभियान’ का आह्वान करते हुए 20 लाख करोड़ रुपए के विशेष आर्थिक और व्यापक पैकेज की घोषणा की थी।

क्लेयर कोनोर मेरिलबोन क्रिकेट क्लब की पहली महिला अध्यक्ष बनीं

  • इंग्लैंड की पूर्व महिला कप्तान क्लेयर कोनोर (Claire Connor) मेरिलबोन क्रिकेटर क्लब (Marylebone Cricket Club-MCC) की पहली महिला प्रेसीडेंट बनेंगी। क्‍लेयर 233 साल पुरानी इस क्लब की पहली महिला प्रेसिडेंट होंगी।
  • क्लेयर कोनोर श्रीलंकाई दिग्ग्ज कुमार संगकारा की जगह लेंगी। श्रीलंका क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान संगकारा अगले साल तक पद मुक्त होंगे।
  • एमसीसी का मुख्यालय दुनिया के सबसे पुराने क्रिकेट ग्राउंड्स में से एक और क्रिकेट का मक्का कहे जाने वाले लॉर्ड्स में स्थित है।

दूसरे राज्य से आकर जम्मू कश्मीर के पहले स्थायी निवासी बने आईएएस नवीन चौधरी

  • जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 खत्म होने और नई निवास अधिवास नीति लागू होने के बाद दरभंगा (बिहार) निवासी आईएएस अफसर को जम्मू-कश्मीर का पहला डोमिसाइल सर्टिफिकेट दिया गया है।
  • आईएएस अफसर नवीन चौधरी वर्तमान में कृषि विभाग में कमिश्नर सेक्रेटरी पद पर सेवाएं दे रहे हैं।
  • नवीन चौधरी दूसरे राज्य से आने वाले ऐसे पहले नौकरशाह हैं, जिन्‍हें जम्‍मू कश्‍मीर राज्य स्थायी निवासी बनाया गया है।
  • यह सर्टिफिकेट जम्मू-कश्मीर ग्रांट डोमिसाइल सर्टिफिकेट (प्रोसिजर) रूल्स 2020 के नियम 5 के तहत जारी किया गया है।
  • केंद्र सरकार ने अनुच्छेद 370 के अंत के बाद जम्मू-कश्मीर में नए डोमिसाइल कानून (संशोधन) को मंजूरी दी थी। इसमें उन लोगों को स्थायी निवासी के रूप में मान्यता दी गई थी जो कि 15 साल से जम्मू-कश्मीर में रह रहे हों या जिन लोगों ने यहां पर सात साल तक पढ़ाई की हो और इसी राज्य के स्कूलों में 10वीं एवं 12 की परीक्षा दी हो।

डीआरडीओ द्वारा विकसित उन्नत टॉरपीडो विध्वसंक प्रणाली ‘मारीच’ नौसेना के बेडे में शामिल

  • भारतीय नौसेना ने 26 जून 2020 को रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) द्वारा विकसित उन्नत टॉरपीडो विध्वसंक प्रणाली-‘मारीच’ (Advanced Anti-Torpedo Decoy System-‘Maareech’) को अपने बेडे में शामिल कर लिया है।
  • ‘मारीच’ प्रणाली हमलावर टॉरपीडो का पता लगाने, उसे भ्रमित करने और खत्म करने में सक्षम है। इसे अग्रिम मोर्चे के सभी युद्धपोतों से दागा जा सकता है।
  • नौसेना के अनुसार अपने सभी परीक्षणों में खरी उतरी मारीच प्रणाली से नौसेना को पनडुब्बी रोधी युद्ध क्षमता में बड़ी मजबूती हासिल हुई है।
  • नौसेना के अनुसार रक्षा उपक्रम भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड द्वारा मारीच विध्वसंक प्रणाली का उत्पादन किया जाएगा।

Leave a Reply