करंट अफेयर्स: 23 जुलाई 2020

काकरापार परमाणु ऊर्जा परियोजना की तीसरी इकाई ने पहली बार क्रांतिकता (Criticality) प्राप्त की

  • गुजरात के तापी जिले में स्थित काकरापार परमाणु ऊर्जा संयंत्र की तीसरी इकाई [Kakrapar Atomic Power Project (KAPP-3)] ने पहली बार क्रांतिकता (Criticality) प्राप्त की है।
  • परमाणु ऊर्जा संयत्र की क्रांतिकता (Criticality) से आशय संयंत्र में पहली बार नियंत्रित स्व-संधारित नाभिकीय विखंडन (Controlled Self-sustaining Nuclear Fission) श्रृंखला की शुरुआत से है।
  • KAPP-3 भारत की पहली 700 मेगावाट विद्युत इकाई होने के साथ स्वदेशी तकनीक से विकसित PHWR की सबसे बड़ी इकाई है।
  • PHWR प्राकृतिक यूरेनियम को ईंधन और भारी जल (D2O) को शीतलक के रूप में प्रयोग किया जाता है।
  • अब तक भारत में स्वदेशी तकनीक से विकसित PHWR की सबसे बड़ी इकाई मात्र 540 मेगावाट की थी, इस प्रकार की दो इकाइयां महाराष्ट्र के तारापुर संयत्र में स्थापित की गई हैं।
  • इस संयंत्र की पहली दो इकाइयां कनेडियन (Canadian) तकनीकी पर आधारित हैं, जबकि इसकी तीसरी इकाई पूर्णरूप से स्वदेशी तकनीकी पर आधारित है।
  • काकरापार परमाणु ऊर्जा संयंत्र में 220 मेगावाट के पहले ‘दबावयुक्त भारी जल रिएक्टर’ (Pressurized Heavy Water Reactor- PHWR) के निर्माण को 6 मई 1993 को और 220 मेगावाट के ही दूसरी इकाई के निर्माण को 1 सितंबर, 1995 को अधिकृत किया गया था।
  • इस संयंत्र की तीसरी और चौथी इकाई के निर्माण का कार्य 2011 में शुरू हुआ था।

एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल ध्रुवस्त्र (Dhruvastra) का ओडिशा में सफल परीक्षण किया

  • भारत ने ओडिशा के चांदीपुर में एकीकृत परीक्षण रेंज से अपनी स्वदेशी विकसित एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल ‘ध्रुवस्त्र’ के डायरेक्‍ट और टॉप अटैक मोड में 15-16 जुलाई को सफल टेस्‍ट किया है।
  • इसका इस्तेमाल भारतीय सेना के हेलीकॉप्टर ध्रुव के लिए किया जाएगा।
  • रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (Defence Research and Development Organisation-DRDO) द्वारा विकसित ध्रुवास्त्र ऐंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल (Dhruvastra anti-tank guided missile) Helicopter-launched Nag Missile (HELINA) वेपन सिस्‍टम का हिस्‍सा है जो दुनिया के सबसे उन्नत एंटी-टैंक हथियारों में से एक है।
  • इस मिसाइल की रेंज चार किलोमीटर से लेकर सात किलोमीटर तक हो सकती है।

टीना डाबी और साहिल सेठ ब्रिक्स सीसीआई के लिए सलाहकार नियुक्त

  • भारतीय प्रशासनिक सेवा की 2016 बैच की टॉपर और भीलवाड़ा उपखंड अधिकारी टीना डाबी और मुंबई सीमा शुल्क उपायुक्त (Deputy Commissioner) साहिल सेठ को अंतरराष्ट्रीय संस्था ब्रिक्स चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज (BRICS Chamber of Commerce and Industry) में अवैतनिक सलाहकार नियुक्त किया गया है।
  • इन्‍हें कमेटी फॉर ब्रिक्स सीसीआई यंग लीडर्स कार्यक्रम 2020-2023 के लिए इंडियन चैप्टर का तीन साल के लिए अवैतनिक सलाहकार नियुक्त किया है।
  • टीना और साहिल ब्रिक्स यूथ लीडरशिप कार्यक्रम के तहत होने वाले यूथ लीडरशिप, नेशन बिल्डिंग एंड थॉट लीडरशिप, व्यवसाय की संभावनाएं, स्किल डवपलमेंट जैसे कार्यक्रमों के लिए सलाह देंगे।
  • ब्रिक्स चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री एक मूल संगठन है जो ब्रिक्स में वाणिज्य और उद्योग को बढ़ावा देता है। इसे 2012 में स्थापित किया गया था।

गलवान में शहीद कर्नल संतोष बाबू की पत्‍नी को तेलंगाना सरकार ने डिप्टी कलेक्‍टर बनाया

  • पूर्वी लद्दाख सीमा पर भारत और चीन के जवानों के बीच हिंसक झड़प में शहीद हुए कर्नल संतोष बाबू की पत्‍नी संतोषी को तेलंगाना सरकार ने डिप्टी कलेक्‍टर के पद पर नियुक्ति दी है।
  • मुख्‍यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने 22 जुलाई 2020 को संतोषी को सरकारी नौकरी का नियुक्ति पत्र सौंपा।
  • इससे पहले तेलंगाना सरकार ने कर्नल संतोष के परिवार को पांच करोड़ रुपए की सम्मान राशि देने का ऐेलान किया था।
  • 15 जून को गलवान घाटी में चीन के अवैध कब्जे को लेकर भारत और चीन की सेनाओं में खूनी संघर्ष हुआ था। इसमें कर्नल संतोष बाबू सहित सेना के 20 जवान शहीद हो गए थे। चीन के भी 43 सैनिक और अधिकारी मारे गए थे।

ओडिशा में मधु बाबू पेंशन योजना के तहत अब ट्रांसजेंडर्स को भी मिलेगी पेंशन

  • ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने एक ऐतिहासिक निर्णय लेते हुए राज्य में रहने वाले ट्रांसजेंडर समुदाय के सभी सदस्यों को भी मधु बाबू पेंशन योजना में शामिल कर लिया है।
  • इस निर्णय के अनुसार, राज्य के ट्रांसजेंडर समुदाय से संबंधित लगभग 5000 लोगों को आर्थिक सहायता मिल सकेगी। मधु बाबू पेंशन योजना (MBPY) राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई एक सामाजिक सुरक्षा योजना है।
  • MBPY के तहत राज्य के लगभग 5,000 ट्रांसजेंडर अपनी उम्र के आधार पर विभिन्न श्रेणियों के तहत पेंशन के रूप में 500 रुपए, 700 रुपए और 900 रुपए प्रति माह प्रतिमाह प्राप्त करने के पात्र होंगे।
  • सार्वजनिक अधिसूचना के अनुसार, लाभार्थियों के पास अनिवार्य प्रमाणपत्र होना चाहिये, साथ यह भी अनिवार्य है कि लाभार्थी की आय प्रति वर्ष 40,000 रुपए से अधिक नहीं होनी चाहिए।

अभिनेता सोनू सूद ने ‘प्रवासी रोज़गार एप’ लॉन्‍च की

  • अभिनेता सोनू सूद ने प्रवासी मजदूरों को नौकरी खोजने के ‘प्रवासी रोजगार (Pravasi Rojgar)’ मोबाइल एप लॉन्‍च की है।
  • इस मोबाइल ऐप की मदद से नौकरी ढूंढ़ने से जुड़ी जरूरी जानकारी आसानी से मिल सकेगी।
  • ‘प्रवासी रोज़गार’ एप्लीकेशन सही नौकरी के अवसर खोजने के लिए श्रमिकों के लिए एक मंच के रूप में कार्य करेगा।
  • इस ऑनलाइन प्लेटफॉर्म में 500 से अधिक कंपनियां हैं जो परिधान, निर्माण, हेल्थ केयर, बीपीओ, इंजीनियरिंग, ऑटोमोबाइल, लॉजिस्टिक्स, ई-कॉमर्स, आदि से संबंधित हैं। एक टोल फ्री नंबर भी लॉन्च किया गया है जिसे 24/7 संचालित किया जाएगा।

Leave a Reply