1 September 2020 : करंट अफेयर्स (Current Affairs 2020)

देश में पहली बार: तमिलनाडु की एम वीरालक्ष्मी (M Veeralakshmi) एंबुलेंस की पहली महिला ड्राइवर बनीं

  • तमिलनाडु में बतौर एंबुलेंस ड्राइवर एम वीरालक्ष्मी (M Veeralakshmi) को नियुक्त किया गया है। एम वीरालक्ष्मी को ‘डायल 108 एंबुलेंस सेवा’ का ड्राइवर नियुक्त किया गया है।
  • यह देश में एंबुलेंस ड्राइवर के तौर पर किसी महिला की ‘पहली’ नियुक्ति है।
  • तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी ने 31 अगस्‍त 2020 को राज्य में आपात सेवा को मजबूत बनाने की कवायद के तहत 118 एंबुलेंस को रवाना किया।
  • 90 एंबुलेंस में जीवन रक्षक चिकित्सा उपकरण लगाए गए हैं।
  • 10 अत्याधुनिक वाहनों का इस्तेमाल कैंपों से संग्रहित खून को रक्त बैंक तक पहुंचाने में होगा।
  • सीएम पलानीस्वामी ने 24 मार्च को विधानसभा में घोषणा की थी कि एंबुलेंस आपात सेवा-108 को और मजबूत किया जाएगा।
  • इसके लिए 125 करोड़ रुपए की लागत से 500 नई एंबुलेंस खरीदी जाएंगी।
  • इसके तहत पहले चरण में 20.65 करोड़ रुपए और 3.09 करोड़ रुपए की लागत से 90 एंबुलेंस और 10 खून जुटाने वाले वाहन खरीदे गए हैं।

रक्षा मंत्रालय ने पिनाका रॉकेट लांचर खरीद के लिए 2580 करोड़ रु का समझौता किया

  • लद्दाख में चीन की घुसपैठ की कोशिश के बीच सेना को मजबूत करने के लिए देश के रक्षा मंत्रालय ने पिनाका रॉकेट लांचर (Rocket Launcher) खरीद के लिए करार किया है।
  • मंत्रालय ने छह सैन्य रेजिमेंट के लिए 2580 करोड़ रुपए की लागत से पिनाका रॉकेट लांचर खरीदने को लेकर दो अग्रणी घरेलू रक्षा कंपनियों के साथ समझौता किया।
  • इसके लिए टाटा पावर कंपनी लिमिटेड (टीपीसीएल) और लार्सन एंड टूब्रो (एल एंड टी) के साथ अनुबंध पर दस्तखत किए हैं।
  • जबकि रक्षा क्षेत्र के सरकारी उपक्रम भारत अर्थ मूवर्स लिमिटेड (बीईएमएल) को भी इस परियोजना का हिस्सा बनाया गया है।
  • पिनाका रेजीमेंट को सैन्य बलों की संचालन तैयारियां बढ़ाने के लिए चीन और पाकिस्तान के साथ लगती भारतीय सीमा पर तैनात किया जाएगा।
  • बीईएमएल ऐसे वाहनों की आपूर्ति करेगी जिस पर रॉकेट लांचर को रखा जाएगा
  • छह पिनाका रेजिमेंट में ‘ऑटोमेटेड गन एमिंग एंड पोजिशनिंग सिस्टम’ (एजीएपीएस) के साथ 114 लांचर और 45 कमान पोस्ट भी होंगे।
  • मिसाइल रेजिमेंट का संचालन 2024 तक शुरू करने की योजना है।

मुंबई एयरपोर्ट में 74 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदेगा अदाणी समूह

  • अरबपति गौतम अदाणी के नेतृत्व वाला अदाणी समूह मुंबई एयरपोर्ट में जीवीके समूह की हिस्सेदारी खरीदेगा।
  • अदाणी एयरपोर्ट होल्डिंग्स ने जीवीके एयरपोर्ट डेवलपर्स के कर्ज को खरीदने के लिए करार किया है।
  • अदाणी एंटरप्राइज की ओर से शेयर बाजारों को भेजी सूचना में यह जानकारी दी गई है
  • जीवीके समूह के पास मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट्स लि. (मायल) की 50.50 प्रतिशत हिस्सेदारी है। कर्ज को इक्विटी में बदला जाएगा।
  • दोनों ही कंपनियों ने इस सौदे के वित्तीय पक्ष का खुलासा नहीं किया है।
  • फाइलिंग के मुताबिक अदाणी समूह मायल में एयरपोर्ट्स कंपनी ऑफ साउथ अफ्रीका (एसीएसए) तथा बिडवेस्ट की 23.5 प्रतिशत हिस्सेदारी के अधिग्रहण के लिए भी कदम उठाएगा।
  • इसके लिए उसे भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (Competition Commission of India-CCI) की मंजूरी मिल चुकी है।
  • सौदा पूरा होने के बाद जीवीके की 50.50 प्रतिशत हिस्सेदारी के साथ मुंबई एयरपोर्ट में अदाणी समूह की हिस्सेदारी 74 प्रतिशत हो जाएगी।

भारत रत्न और पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी नहीं रहे

  • पिछले कुछ कुछ समय से बीमार चल रहे भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का 31 अगस्त 2020 को निधन हो गया।
  • 84 साल के प्रणब दिल्ली कैंट स्थित आर्मी रिसर्च एंड रेफरल (आर एंड आर) हॉस्पिटल में 10 अगस्त से भर्ती थे।
  • वहां उनकी ब्रेन से क्लॉटिंग हटाने के लिए इमरजेंसी में सर्जरी की गई थी। बाद में उनके फेंफड़ों में भी संक्रमण हो गया था।
  • फेफड़ों में संक्रमण की वजह से वह सेप्टिक शॉक में थे। सेप्टिक शॉक की स्थिति में रक्तचाप काम करना बंद कर देता है और शरीर के अंग पर्याप्त ऑक्सीजन प्राप्त करने में विफल हो जाते हैं।
  • 84 वर्षीय मुखर्जी लगातार गहरे कोमा में थे और उन्हें वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखा गया था।
  • वे देश के पहले ऐसे भी राष्ट्रपति रहे, जिसके पास सक्रिय राजनीति का लंबा अनुभव था। इन्‍होंने सात बजट पेश किए।
  • 1969 में सियासत में आने वाले प्रणब करीब 50 साल तक सक्रिय राजनीति में रहे।
  • तेज दिमाग और शानदार याददाश्त की वजह से उन्हें कांग्रेस का चाणक्य के साथ लिविंग कंप्यूटर भी कहा जाता था।
  • प्रणब का जन्म ब्रिटिश दौर की बंगाल प्रेसिडेंसी (अब पश्चिम बंगाल) के मिराती गांव में 11 दिसंबर 1935 को हुआ था।
  • उन्होंने कलकत्ता विश्वविद्यालय से पॉलिटिकल साइंस और हिस्ट्री में एमए किया।
  • वे डिप्टी अकाउंट जनरल (पोस्ट एंड टेलीग्राफ) में क्लर्क भी रहे।
  • 1963 में वे कोलकाता में पॉलिटिकल साइंस के लेक्चरर भी रहे।
  • राष्ट्रपति को महामहिम कहे जाने की रीति से ऐतराज करने वाले प्रणब मुखर्जी 2012 से 2017 तक देश के 13वें राष्ट्रपति रहे।
  • प्रणब को 2019 में भारत रत्न सम्मान से नवाजा गया था। इसके साथ ही वे भारत रत्न पाने वाले पांचवें राष्ट्रपति बने।
  • उनसे पहले राजेंद्र प्रसाद, सर्वपल्ली राधाकृष्णन, जाकिर हुसैन और वीवी गिरी को यह सम्मान मिला।

Leave a Reply