17 December 2020 : करंट अफेयर्स (Current Affairs 2020)

भारत ने स्वदेशी ‘पृथ्वी-2’ (Prithvi-2) मिसाइल का सफल परीक्षण किया

  • भारत ने 16 दिसंबर 2020 को ओडिशा में बालासोर के पूर्वी तट से दो पृथ्वी -2 बैलिस्टिक मिसाइलों (Prithvi-2 Ballistic Missiles) का सफलतापूर्वक परीक्षण किया।
  • इस मिसाइल को आईटीआर के प्रक्षेपण परिसर-3 से एक मोबाइल लॉन्चर से दागा गया। इस मिसाइल का नाइट ट्रायल लाउंच कॉम्पैक्स-3 से मोबाइल लाउंचर से 7pm से 7.15pm के बीच किया गया।
  • यह परमाणु संपन्न मिसाइल सतह से सतह पर मार करने में सक्षम है। एक महीने में पृथ्वी-2 मिसाइल का यह दूसरा परीक्षण है। पहले 20 नवंबर 2020 को ओडिशा तट से इस मिसाइल का परीक्षण किया गया था।
  • पृथ्वी-2 बैलिस्टिक मिसाइल को रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (Defence Research and Development Organisation-DRDO) की ने स्वदेशी तरीके से विकसित किया है।
  • Prithvi-2 मिसाइल की मारक क्षमता 350 किलोमीटर है।
  • पृथ्वी-2 मिसाइल 500 से 1,000 किलोग्राम भार तक के हथियारों को लेकर जाने में सक्षम है।
  • इसमें तरल ईंधन वाले दो इंजन लगाए गए हैं। इसे तरल और ठोस दोनों तरह क ईंधन से संचालित किया जाता है।
  • यह मिसाइल परंपरागत और परमाणु दोनों तरह के हथियार ले जाने में सक्षम है।
  • 8.56 मीटर लंबी, 1.1 मीटर चौड़ी और 4,600 किलोग्राम वजन वाली यह मिसाइल 483 सेकेंड तक और 43.5 किमी की ऊंचाई तक उड़ान भर सकती है।

वायुसेना के लिए डीआरडीओ बनाएगा 6 नए ‘आई इन द स्काई’ विमान, 360 डिग्री सर्विलांस हो सकेगी

  • गलवान घाटी विवाद के बाद भारत अब चीन और पाकिस्तान से लगी सीमा पर सर्विलांस की क्षमता को और मजबूत बनाएगा।
  • इसके लिए भारत ने 6 नए एयरबोर्न अर्ली वार्निंग एंड कंट्रोल सिस्टम (अवॉक्स) वाले ‘आई इन द स्काई’ एयरक्राफ्ट्स बनाने का फैसला किया है। इनकी 360 डिग्री सर्विलांस की क्षमता होगी।
  • 6 नए ‘आई इन द स्काई’ विमानों को देश में अलग-अलग स्थानों पर तैनात किया जाएगा, ताकि पड़ोसी देशों से लगी सीमा पर सर्विलांस की प्रक्रिया प्रभावी तरीके से काम करें।
  • रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (Defence Research and Development Organisation-DRDO) 10,500 करोड़ रुपए के प्रोजेक्ट के तहत अवॉक्स ब्लॉक 2 एयरक्राफ्ट का विकास करेगा।
  • नए अवॉक्स ब्लॉक 2 एयरक्राफ्ट नेत्र सर्विलांस विमानों के मुकाबले ताकतवर होंगे।
  • वायुसेना से एयरक्राफ्ट्स अधिग्रहित कर इन्हें यूरोपियन कंपनी के पास भेजा जाएगा। यहां सुधार के बाद इन विमानों पर राडार स्थापित किए जाएंगे।
  • अभी भारतीय वायुसेना के पास 3 फॉल्कन अवॉक्स सिस्टम हैं, जिन्हें इजरायल और रूस से खरीदकर विकसित किया गया है। ब्लॉक 1 सिस्टम के लिए इजरायल से राडार खरीदा गया और रूस के इल्यूशिन-76 ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट पर इसे फिट किया गया।

ओडिशा में सेंटर फॉर द स्टडी ऑफ कांप्लेक्स मलेरिया के वैज्ञानिकों की रिसर्च: सेरेब्रल मलेरिया सबसे घातक

  • वैज्ञानिकों को मलेरिया से जुड़ी 100 साल पुरानी गुत्थी को सुलझाने में बड़ी कामयाबी मिली है। ओडिशा के सेंटर फॉर द स्टडी ऑफ कांप्लेक्स मलेरिया के वैज्ञानिकों ने ब्रेन इमेजिंग तकनीक से यह पता लगा लिया है कि मलेरिया दिमाग पर किस तरह से असर डालता है।
  • इस खोज से यह जानने में मदद मिलेगी कि बच्चों और वयस्कों में मलेरिया का अलग-अलग असर और स्वरूप क्यों दिखाई देता है।
  • शोधकर्ताओं के मुताबिक सेरेब्रल मलेरिया यानी दिमाग पर असर डालने वाला मलेरिया घातक और जानलेवा होता है। सेरेब्रल मलेरिया से ग्रसित हर पांच में एक व्यक्ति की इलाज के बाद भी मौत हो जाती है।
  • मलेरिया के अन्य प्रकार की ही तरह यह संक्रमण भी मादा एनोफिलीज मच्छर के काटने से फैलता है।
  • विज्ञान पत्रिका क्लीनिकल इन्फेक्शियस डिजीजेज में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार, इस बीमारी से ठीक हुए लोगों और जान गंवा चुके लोगों के मस्तिष्क का तुलनात्मक अध्ययन किया गया।
  • अध्ययन में सेरेब्रल मलेरिया के 65 और राउरकेला के इस्पात जनरल हॉस्पिटल में इलाज करा रहे सामान्य मलेरिया के 26 मरीजों को शामिल किया गया।
  • वैज्ञानिकों ने पाया कि मरीजों में बढ़ती उम्र के साथ दिमाग में सूजन आने की शिकायत कम होती जाती है।
  • वयस्क मरीजों में दिमाग की सूजन और मौत के बीच कोई सीधा संबंध नहीं पाया गया। इस खोज से मरीज के हिसाब से इलाज देने का रास्ता खुल सकता है।

हिमालय के ठंडे रेगिस्तानी क्षेत्र में पहली बार हिमालयन सीरो (Himalayan Serow) देखा गया

  • हाल ही में हिमालय के ठंडे रेगिस्तानी क्षेत्र (हिमाचल प्रदेश के स्पीति में हर्लिंग गाँव के पास) में पहली बार हिमालयन सीरो (Himalayan Serow) को देखा गया है।
  • हिमालयन सीरो बकरी, गधा, गाय तथा एक सुअर के समान दिखता है। यह बड़े सिर, मोटी गर्दन, छोटे अंग, खच्चर जैसे कान, और काले बालों वाला एक मध्यम आकार का स्तनपायी है।
  • सीरो की कई प्रजातियां हैं और ये सभी एशिया में पाए जाती हैं। हिमालयन सीरो या कैपरीकोर्निस सुमात्रेंसिस थार (Capricornis Sumatraensis Thar) हिमालयी क्षेत्र तक ही सीमित है।
  • हिमालयन सीरो शाकाहारी होते हैं।
  • स्पीति पश्चिमी हिमालय के ठंडे पर्वतीय रेगिस्तानी क्षेत्र में स्थित है और यह घाटी समुद्र तल से औसतन 4,270 मीटर की ऊंचाई पर है।

यूवी-एलईडी कोरोना वायरस को मारने में सक्षम

  • इज़राइल के तेल अवीव विश्वविद्यालय (Tel Aviv University) के शोधकर्त्ताओं ने एक शोध में पाया कि कोरोना वायरस को पराबैंगनी-प्रकाश उत्सर्जक डायोड यानी यूवी-एलईडी (UV-LEDs) का उपयोग करके आसानी से मारा जा सकता है।
  • शोध के दौरान कोरोना वायरस परिवार के सभी सदस्यों जिसमें SARS-CoV-2 भी शामिल है, पर यूवी-एलईडी विकिरण की कीटाणुशोधन क्षमता का आकलन किया गया।
  • शोध में पाया गया कि पराबैंगनी-प्रकाश वाले एलईडी (LED) बल्बों का उपयोग करके कोरोना वायरस को आसानी से खत्म किया जा सकता है।
  • हालांकि शोधकर्त्ताओं ने स्पष्ट किया है कि घरों के अंदर की सतह को कीटाणुरहित करने के लिए इस पद्धति का प्रयोग करना खतरनाक हो सकता है।
  • इस पद्धति का प्रभावी ढंग से प्रयोग करने के लिए ऐसा सिस्टम डिज़ाइन किया जाना आवश्यक है, जिससे कोई भी व्यक्ति प्रत्यक्ष तौर पर प्रकाश के संपर्क में न आए।

बास्केटबॉल: जियानिस ने मिलवॉकी बक्स से 1680 करोड़ का करार किया, यह एनबीए इतिहास की सबसे महंगी डील

  • अमेरिकन बास्केटबॉल क्लब मिलवॉकी बक्स (Milwaukee Bucks) ने अपने स्टार जियानिस एंटेटोकोनपो से 5 साल के लिए कॉन्ट्रैक्ट बढ़ा दिया है।
  • क्लब ने जियानिस से 228.2 मिलियन डॉलर (करीब 1680 करोड़ रुपए) का करार किया है।
  • यह एनबीए (नेशनल बास्केटबॉल एसोसिएशन) इतिहास की सबसे महंगी डील है।
  • जियानिस ने ह्यूस्टन रॉकेट्स के गार्ड जेम्स हर्डेन का 228 मिलियन डॉलर (करीब 1678 करोड़ रुपए) का रिकॉर्ड तोड़ा। रॉकेट्स ने हर्डेन से 2017 में करार किया था।
  • 26 साल के जियानिस दो बार मोस्ट वैल्यूएबल खिलाड़ी बन चुके हैं। वे इस साल मोस्ट डिफेंसिव खिलाड़ी चुने गए थे।
  • वे माइकल जॉर्डन और हकीम ओलाजुवोन के बाद तीसरे खिलाड़ी हैं, जिन्हें एक ही साल सबसे वैल्यूएबल और सबसे डिफेंसिव खिलाड़ी चुना गया।

क्रिकेट में नस्लभेद के खिलाफ आवाज उठाने वाले माइकल होल्डिंग और रेनफोर्ड को अवॉर्ड

  • वेस्टइंडीज के दिग्गज क्रिकेटर माइकल होल्डिंग और इंग्लैंड की पूर्व महिला क्रिकेटर एबोनी रेनफोर्ड-ब्रेंट को फ्रीडम ऑफ द सिटी ऑफ लंदन (Freedom of the city of London) अवॉर्ड से सम्मानित किया गया है।
  • होल्डिंग ने ब्लैक लाइव्स मैटर अभियान को समर्थन दिया था। यह अवॉर्ड अपने क्षेत्रों में विशेष सफलताएं हासिल करने वाले व्यक्ति को दिया जाता है।
  • लंदन के मेयर विलियम रसेल ने कहा, ‘इबोनी और माइकल ने इस देश में नस्लभेद के खिलाफ बोलकर साहसिक रवैया अपनाया है। उन्होंने जिस तरह से नस्लभेद को समाप्त करने के लिए वैश्विक आंदोलन को अपनी आवाज दी, ‘फ्रीडम ऑफ द सिटी ऑफ लंदन’ उसे मान्यता प्रदान करता है।’
  • होल्डिंग ने इंग्लैंड और वेस्टइंडीज सीरीज के दौरान नस्लभेद पर बेहद प्रभावशाली भाषण दिया था।
  • रेनफोर्ड ब्रेंट इंग्लैंड की ओर से खेलने वाली पहली अश्वेत महिला खिलाड़ी थी। उन्होंने 2001 से 2010 तक 22 वनडे और सात टी20 इंटरनेशनल मैच खेले।

विजय दिवस (Vijay Diwas)

  • 1971 के युद्ध में पाकिस्तान पर भारत की विजय की स्मृति में प्रतिवर्ष 16 दिसंबर को विजय दिवस (Vijay Diwas) मनाया जाता है।
  • 2020 में विजय दिवस के 50 वर्ष पूरे हो गए हैं और सरकार ने इस अवसर को मनाने के लिए ‘स्वर्णिम विजय वर्ष’ कार्यक्रम का आयोजन किया।
  • राष्ट्रीय युद्ध स्मारक उन सभी सैनिकों को समर्पित है जिन्होंने आज़ादी के बाद देश की रक्षा के लिए अपना जीवन बलिदान कर दिया। साथ ही यह स्मारक उन सैनिकों को भी याद करता है जिन्होंने शांति अभियानों में बलिदान दिया।
  • भारत सरकार ने 3 दिसंबर 1971 को बंगाली मुसलमानों और हिंदुओं की रक्षा के लिए पाकिस्तान के साथ युद्ध लड़ने का निर्णय लिया था।
  • यह युद्ध भारत और पाकिस्तान के मध्य 13 दिनों तक लड़ा गया था।
  • 16 दिसंबर 1971 को पाकिस्तानी सेना के प्रमुख ने 93,000 सैनिकों के साथ ढाका में भारतीय सेना जिसमें मुक्ति वाहिनी भी शामिल थी, के सामने बिना शर्त आत्मसमर्पण कर दिया था।
  • मुक्ति वाहिनी उन सशस्त्र संगठनों को संदर्भित करती है जो बांग्लादेश मुक्ति युद्ध के दौरान पाकिस्तान सेना के विरुद्ध लड़े थे। यह एक गुरिल्ला प्रतिरोध आंदोलन था।
  • इसी दिन बांग्लादेश की उत्पत्ति हुई थी। इसलिए बांग्लादेश प्रत्येक वर्ष 16 दिसंबर को स्वतंत्रता दिवस (बिजोय डिबोस) मनाता है।

कुछ अन्‍य महत्‍वपूर्ण करंट अफेयर्स

  • विश्व बैंक ने भारत के लिए चार परियोजनाओं को मंजूरी दी: विश्व बैंक (World Bank) ने 16 दिसंबर 2020 को भारत में विकास कार्यों की सहायता के लिए 80 करोड़ डॉलर से अधिक की लागत वाली चार परियोजनाओं को मंजूरी दी है। इनमें छत्तीसगढ़ समावेशी ग्रामीण और त्वरित कृषि वृद्धि परियोजना (चिराग), नगालैंड: कक्षा शिक्षण और संसाधन परियोजना का विस्तार तथा दूसरा बांध सुधार और पुनर्वास परियोजना शामिल हैं। विश्व बैंक के भारत में क्षेत्रीय निदेशक जुनैद अहमद ने कहा कि चारों परियोजनाएं टिकाऊ और मजबूत अर्थव्यवस्था बनाने के भारत के प्रयासों को संबल प्रदान करेंगी। 10 करोड़ डॉलर की लागत वाली छत्तीसगढ़ समावेशी ग्रामीण और त्वरित कृषि वृद्धि परियोजना सतत उत्पादन व्यवस्था विकसित करेगी।
  • दोहा को 2030 एशियन गेम्स की मेजबानी, रियाद में 2034 में होगा एशियाड: ओलिंपिक काउंसिल ऑफ एशिया (Olympic Council of Asia-OCA) ने दोहा को 2030 एशियन गेम्स की मेजबानी दी है जबकि 2034 में ये गेम्स रियाद में होंगे। ओसीए की मीटिंग में कतर की राजधानी दोहा ने सबसे ज्यादा 45 वोट लेकर मेजबानी जीती। रियाद दूसरे पर रहा था। इसके बाद उसे भी मेजबानी मिल गई। दोहा में 2006 में 15वें गेम्स हुए थे लेकिन सऊदी अरब में पहली बार गेम्स होंगे। अगला एशियाड 2022 में हेंगझोऊ में होगा।

Leave a Reply