14-15 January 2021 : करंट अफेयर्स (Current Affairs 2021)

वायुसेना को 83 तेजस लड़ाकू विमान मिलेंगे, सरकार ने 48 हजार करोड़ की डील को मंजूरी दी

  • भारतीय वायुसेना (Air force) के बेड़े में जल्द 83 तेजस (Tejas) विमान शामिल होंगे।
  • लड़ाकू विमान तेजस (Tejas) की 48 हजार करोड़ रुपए की डील को प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में कैबिनेट की सुरक्षा मामलों की समिति (Cabinet Committee on Security) ने मंजूरी दी है।
  • मेक इन इंडिया अभियान के तहत ये डील रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भरता की दिशा में गेम चेंजर साबित होगी।
  • इससे देश में ही उद्योग क्षेत्र में निर्माण में तेजी आएगी। रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे, स्थानीय अर्थव्यवस्था में नकदी आएगी और अर्थव्यवस्था को गति मिलेगी।
तेजस (Tejas)
  • तेजस चौथी पीढ़ी का लड़ाकू विमान है। इसे एयरोनॉटिकल डवलपमेंट एजेंसी (Aeronautical Development Agency) और Hindustan Aeronautics Limited ने विकसित किया है।
  • Tejas हवा से हवा में और हवा से जमीन पर मिसाइल (Missile) दाग सकती है।
  • इसमें एंटीशिप मिसाइल, बम और रॉकेट भी लगाए जा सकते हैं।
  • तेजस 42% कार्बन फाइबर, 43% एल्यूमीनियम एलॉय और टाइटेनियम से बनाया गया है।
  • यह चौथी पीढ़ी का टेललेस कंपाउंड डेल्टा विंग स्वदेशी विमान है। इसके अलावा चौथी पीढ़ी के सुपरसोनिक लड़ाकू विमानों के समूह में यह सबसे हल्का और सबसे छोटा भी है।

अंतरधार्मिक विवाह (Inter-Caste Marriages) के मामले में 30 दिन का नोटिस देने की बाध्यता हाईकोर्ट ने खत्म की

  • उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद (Allahabad) हाईकोर्ट की लखनऊ खंडपीठ ने विशेष विवाह अधिनियम-1954 में बड़ा बदलाव किया है।
  • हाईकोर्ट ने अधिनियम के अंतर्गत शादी करने वाले जोड़ों को एक महीने पहले नोटिस प्रकाशित करने की बाध्यता को खत्म कर दिया है।
  • एक दंपती की याचिका पर सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने कहा कि पसंद का साथी चुनना व्यक्ति का मौलिक अधिकार है।
  • विशेष विवाह अधिनियम-1954 की धारा 5 में विवाह के लिए एक महीने पहले नोटिस देने की बाध्यता है।
  • जस्टिस विवेक चौधरी ने 47 पेज के फैसले में कहा कि शादी करने वाले नहीं चाहते हैं तो इस तरह के नोटिस की बाध्यता नहीं की जा सकती। ये नियम व्यक्ति की निजता के अधिकार का हनन है।

अस्मी: मशीन पिस्टल (ASMI:The Machine Pistol) विकसित किया

  • भारत की पहली स्वदेशी 9 MM मशीन पिस्टल (9mm Machine Pistol) को इन्फैंट्री स्कूल, महोव और DRDO के आर्मामेंट रिसर्च एंड डेवलपमेंट एस्टेब्लिशमेंट (DRDO’s Armament Research & Development Establishment- ARDE), पुणे ने संयुक्त रूप से विकसित किया है।
  • मशीन पिस्तौल मुख्य रूप से पिस्तौल का स्व-लोडिंग संस्करण है जो पूरी तरह से स्वचालित है।
  • पिस्तौल का नाम ‘अस्मी’ (Asmi) रखा गया है जिसका अर्थ गर्व, आत्मसम्मान तथा कठिन परिश्रम है।
  • इस पिस्तौल में 9MM की गोली इस्तेमाल की जाएगी।
  • इस पिस्तौल का वज़न लगभग 2 किलोग्राम, नाल (Barre) की लंबाई 8 इंच और मैगज़ीन (Magazine) की क्षमता 33 राउंड है।
  • इसका ऊपरी रिसीवर एयरक्राफ्ट ग्रेड एल्युमीनियम तथा निचला रिसीवर कार्बन फाइबर (Carbon Fibre) से बना है।
  • इसके ट्रिगर घटक सहित विभिन्न भागों की डिज़ाइनिंग और प्रोटोटाइपिंग में 3डी प्रिंटिंग प्रक्रिया का इस्तेमाल किया गया है।
  • एक मशीन पिस्तौल की उत्पादन लागत लगभग 50 हज़ार रुपए है और इसे निर्यात किए जाने की भी संभावना है।

मंत्रिमंडल ने वैज्ञानिक एवं तकनीकी सहयोग के लिए भारत और संयुक्‍त अरब अमीरात के बीच समझौता ज्ञापन को मंजूरी दी

  • केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारत के पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय और संयुक्त अरब अमीरात के नेशनल सेंटर ऑफ मेट्रोलॉजी (National Center of Meteorology) के बीच वैज्ञानिक एवं तकनीकी सहयोग संबंधी सहमति पत्र (एमओयू) को 13 जनवरी को मंजूरी प्रदान कर दी।
  • समझौते के तहत दोनों देशों के बीच एमओयू के तहत रडार, उपग्रह और ज्‍वार मापने वाले उपकरण तथा भूकंप और मौसम विज्ञान केंद्रों के संबंध में आंकड़े और ज्ञान को साझा किया जा सकेगा।
  • इसके तहत वैज्ञानिकों अनुसंधानकर्ताओं और विशेषज्ञों के अनुसंधान, प्रशिक्षण, परामर्श आदि के संबंध में दोनों देशों के बीच यात्राएं और अनुभवों का आदान-प्रदान, जलवायु संबंधी जानकारी पर केन्द्रित सेवाओं, उष्‍णकटिबंधीय तूफान की चेतावनी से संबंधित उपग्रह डाटा का उपयोग एवं आदान-प्रदान किया जा सकेगा।
  • इस समझौते के तहत साझा महत्व की वैज्ञानिक और तकनीकी जानकारी को साझा किया जाएगा।
  • भारत के दक्षिण और पश्चिम में और संयुक्त अरब अमीरात के उत्तर में स्थित स्थित भूकंपीय स्टेशनों से रियल-टाइम भूकंपीय आंकड़ों का आदान-प्रदान किया जाएगा।

हरियाणा में देश की पहली Air Taxi की शुरुआत

  • हाल ही में भारत सरकार की क्षेत्रीय संपर्क योजना- उड़े देश का आम नागरिक (RCS- UDAN Scheme) के तहत हरियाणा के हिसार (Hisar) हवाई अड्डे से चंडीगढ़ (Chandigarh) से हिसार तक चलने वाली एयर टैक्सी (Air Taxi) सेवा का उद्घाटन किया गया।
  • उड़ान योजना के अंतर्गत संचालित होने वाला यह 54वां हवाई अड्डा बन गया है।
  • हिसार में हवाई अड्डे के लिए 7 हजार 300 एकड़ भूमि का प्रावधान किया गया हैं। इसके अतिरिक्त 10 हजार एकड़ भूमि भी हवाई अड्डे के उद्देश्यों के लिए शामिल करने की दिशा में कार्य योजना पर विचार किया जा रहा है।
  • उड़ान योजना के तहत अभी तक 5 हेलिकॉप्टर और 2 वाटरएयरोड्रम सहित 307 रूट व 54 हवाई अड्डों का परिचालन शुरू हो चुका है।
  • एयरलाइन एविएशन कनेक्टिविटी एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर डवलपर्स प्रा. लि. (Air Taxi) को उड़ान 4 निविदा प्रक्रिया के तहत हिसार- चंडीगढ़- हिसार रूट का आवंटन कर दिया गया है।
  • यह एयरलाइन एयर टैक्सी सेवाओं के साथ राष्ट्र की सेवा करने वाली पहली स्टार्टअप एयरलाइन बन गई है।
  • इन उड़ान सेवाओं से हिसार से चंडीगढ़ के बीच का सफर 4.50 घंटे से घटकर 45 मिनट का रह जाएगा।
  • इसके दूसरे चरण में इस एयर टैक्सी सेवा क़ो हरियाणा के हिसार से उत्तराखंड के देहरादून के लिए शुरू किया जाएगा।
  • इसके बाद तीसरे चरण की सेवा 23 जनवरी से चंडीगढ़ से देहरादून और हिसार से धर्मशाला के लिए शुरू की जाएगी।

अमेरिका में 67 साल में पहली बार महिला कैदी को मौत का इंजेक्शन

  • अमेरिका में 67 साल में पहली बार एक महिला को मौत की सजा दी गई है।
  • कंसास (Kansas) में रहने वाली लीजा मोंटगोमरी को एक गर्भवती महिला की गला दबा कर हत्या करने और गर्भ काट कर भ्रूण निकालने के जुर्म में मौत की सजा दी गई।
  • 52 साल की लीजा को इंडियाना प्रांत के टेरे हौटे के संघीय जेल परिसर में जहरीला इंजेक्शन लगाए जाने के बाद रात 1:31 बजे मृत घोषित कर दिया गया।

पूर्व सैनिक दिवस (Veterans Day)

  • भारतीय सशस्त्र सेनाओं द्वारा प्रतिवर्ष 14 जनवरी को पूर्व सैनिकों के सम्‍मान में पूर्व सैनिक दिवस (Veterans Day) मनाया जाता है।
  • भारतीय सशस्त्र सेनाओं के पहले कमांडर-इन-चीफ फील्‍ड मार्शल केएम करियप्‍पा (K.M. Cariappa) के सेना में दिए गए अतुलनीय योगदान की याद में यह दिवस मनाया जाता है।
  • फील्‍ड मार्शल करियप्‍पा 1953 में इसी दिन सेवानिवृत्त हुए थे।
  • इस दिवस पर हमारे बहादुर सेना नायकों और पूर्व सैनिकों की राष्ट्र के प्रति निस्‍वार्थ सेवा और बलिदान के सम्‍मान में तथा उनके परिजनों के प्रति एकजुटता प्रदर्शित करने के लिए देश के विभिन्‍न क्षेत्रों में पूर्व सैनिकों के लिए सम्मिलन कार्यक्रम (वेटरन्स मीट्स) आयोजित किए जाते हैं।
  • 1899 में कर्नाटक में जन्मे फील्‍ड मार्शल के.एम. करियप्‍पा को स्वतंत्र भारत के पहले सेना प्रमुख के रूप में जाना जाता है।
  • द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जापान के विरुद्ध बर्मा (वर्तमान म्यांमार) में उनकी महत्त्वपूर्ण भूमिका के लिए उन्हें प्रतिष्ठित ‘ऑर्डर ऑफ ब्रिटिश एम्पायर’ (OBE) से भी सम्मानित किया गया था।
  • 15 जनवरी 1949 को के.एम. करियप्‍पा को भारतीय सेना का पहला कमांडर-इन-चीफ बनाया गया था।
  • उन्हें फील्ड मार्शल की फाइव-स्टार रैंक भी दी गई थी, जो कि भारतीय सेना का सर्वोच्च सम्मान है और इसे अब तक दो ही लोग प्राप्त कर सके हैं, पहले फील्‍ड मार्शल के.एम. करियप्‍पा और दूसरे फील्‍ड मार्शल सैम मानेकशॉ।

Leave a Reply