12 February 2021 : करंट अफेयर्स (Current Affairs 2021)

एनएचएआई (NHAI) ने फास्टैग (FasTag) वॉलेट में मिनिमम बैलेंस रखने की अनिवार्यता खत्म की

  • भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (National Highways Authority of India-NHAI) ने फास्टैग (FasTag) वॉलेट में न्यूनतम राशि बनाए रखने की जरूरत खत्म करने का फैसला किया है।
  • इसे पैसेंजर सेगमेंट (कार, जीप, वैन) के लिए सिक्‍योरिटी डिपॉजिट के अतिरिक्त देना होता था।
  • इस कदम का मकसद इलेक्ट्रॉनिक टोल प्लाजा पर बाधामुक्‍त आवाजाही सुनिश्चित करना है।
  • प्राधिकरण ने कहा कि फास्‍टैग जारी करने वाले बैंक एकतरफा रूप से सिक्‍योरिटी डिपॉजिट के अलावा फास्टैग खाते/वॉलेट की कुछ राशि को रोक रहे हैं। इसके चलते कई फास्टैग यूजरों को अपने फास्टैग (FasTag) अकाउंट/वॉलेट में पर्याप्त राशि होने के बावजूद टोल प्लाजा से गुजरने की अनुमति नहीं दी गई।
  • अगर फास्टैग (FasTag) अकाउंट/वॉलेट में शून्य से नीचे नहीं है, तो अब यूजरों को टोल प्लाजा से गुजरने की अनुमति दी जाएगी।
  • बता दें कि 15 फरवरी 2021 से टोल प्‍लाजा पर भुगतान फास्टैग से करना अनिवार्य होगा।
क्‍या है फास्‍टैग (FasTag)?
  • फास्‍टैग (FasTag) के जरिये आप टोल प्‍लाजा पर टोल टैक्‍स का भुगतान कैशलेस कर पाते हैं।
  • यह एक प्रकार का टैग या चिप है जिसे कार की विंडस्‍क्रीन पर लगाया जाता है।
  • इसमें रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन का इस्तेमाल होता है।
  • जैसे ही आपकी गाड़ी टोल प्लाजा के पास आती है, टोल प्लाजा पर लगा सेंसर आपके वाहन के विंडस्क्रीन पर लगे फास्टैग को ट्रैक कर लेता है।
  • इसके बाद आपके फास्टैग अकाउंट से उस टोल प्लाजा पर लगने वाला शुल्क कट जाता है. इस तरह आप टोल प्लाजा पर रुके बगैर शुल्क का भुगतान कर पाते हैं।

भीमबेटका (Bhimbetka) की गुफाओं में मिला दुनिया के सबसे पुराने जानवर का जीवाश्म

  • यूनेस्‍को (Unesco) के संरक्षित क्षेत्र भीमबेटका (Bhimbetka) में शोधकर्ताओं ने दुनिया के सबसे पुराने जानवर का जीवाश्‍म खोजा है।
  • भीमबेटका (Bhimbetka) के ऑडिटोरियम गुफा की छत पर मिले जानवर का जीवाश्म करीब 57 करोड़ साल पुराना है।
  • इसका नाम डिकिनसोनिया (Dickinsonia) है और देश में पहली बार इस जानवर का जीवाश्म मिला है।
  • भीमबेटका में यह जीवाश्‍म शोधकर्ताओं को संयोग से मिला। मार्च 2020 में होने वाली 36वीं इंटरनेशनल जियोलॉजिकल कांग्रेस के पहले दो शोधकर्ता भीमबेटका के टूर पर गए थे।
  • इसी दौरान उनकी नजर पत्‍तीनुमा आकृतियों पर पड़ी। यह जमीन से 11 फीट की ऊंचाई पर चट्टान के ऊपर मौजूद था और किसी रॉक आर्ट (Rock Art) की तरह नजर आ रहा था।
  • शोधकर्ताओं की खोज को गोंडवाना रिसर्च (Gondwana Research) नामक अंतरराष्‍ट्रीय पत्रिका के फरवरी के अंक में प्रकाशित किया गया है।
  • डिकिनसोनिया (Dickinsonia) के जीवाश्‍म चार फीट तक बढ़ सकते हैं। भीमबेटका में मिला जीवाश्‍म 17 इंच लंबा है।
  • 64 साल पहले भीमबेटका (Bhimbetka) में जीवाश्म चट्टानों का पहली बार पता चला था। इसके बाद से यहां लगातार शोधकार्य चल रहे हैं।

डेनमार्क उत्तरी सागर में बनाएगा विश्व का पहला ‘एनर्जी आइलैंड’ (Energy Island)

  • डेनमार्क में तकरीबन 3 मिलियन घरों की ऊर्जा संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए एक विशाल ऊर्जा द्वीप (Energy Island) के निर्माण को हाल ही में मंज़ूरी दी गई है।
  • यह ऊर्जा द्वीप विश्व का पहला पहला ऊर्जा द्वीप (World’s First Energy Island) होगा, जो कि तकरीबन 18 फुटबॉल मैदानों के बराबर होगा।
  • इस परियोजना को तकरीबन 210 बिलियन डेनिश क्रोन की अनुमानित लागत से पूरा किया जाएगा।
  • इसे डेनमार्क के इतिहास में अब तक की सबसे बड़ी निर्माण परियोजना में से एक माना जा रहा है।
  • यह आइलैंड (Island) 200 विशाल अपतटीय पवन टर्बाइनों (Wind Turbines) के लिए एक केंद्र के रूप में काम करेगा।
  • समुद्र से तकरीबन 80 किलोमीटर (50 मील) की दूरी पर स्थित इस कृत्रिम ऊर्जा द्वीप (Artificial Energy Island) में लगभग 50 प्रतिशत हिस्सेदारी डेनमार्क की सरकार की होगी।
  • डेनमार्क के जलवायु अधिनियम के तहत, 1990 के दशक से 2030 के दशक तक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन स्तर में तकरीबन 70 प्रतिशत की कमी लाने और 2050 तक कार्बन डाई ऑक्‍साइड (CO2) तटस्थ बनने की प्रतिबद्धता ज़ाहिर की गई है।
  • दिसंबर 2020 में डेनमार्क ने घोषणा की थी कि वह उत्तरी सागर में सभी प्रकार के नए तेल और गैस अन्वेषण कार्यक्रमों को समाप्त कर देगा।
  • यह ‘एनर्जी आइलैंड’ (Energy Island) डेनमार्क के ऊर्जा उद्योग के लिए भी काफी महत्त्वपूर्ण साबित होगा।

चीन में बीबीसी वर्ल्ड न्यूज के प्रसारण पर प्रतिबंध

  • चीन की सरकार देश में बीबीसी वर्ल्ड न्यूज (BBC World News) के टेलीविजन और रेडियों प्रसारण पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंधित लगा दिया है।
  • इस प्रतिबंध का कारण चीन में कोरोना वायरस महामारी (Corona Virus Pandemic) और अल्पसंख्यक उइगर मुस्लिमों के उत्पीड़न के संबंध में रिर्पोटिंग करना है।
  • हाल ही में ब्रिटेन (Britain) ने चीन के सरकारी चैनल सीजीटीएन का लाइसेंस रद्द कर दिया था।
  • चीन का कहना है कि बीबीसी वर्ल्ड न्यूज ने नियमों का उल्लंघन किया है। उन्होंने कहा कि समाचार सत्य और निष्पक्ष होना चाहिए और न कि चीन के राष्ट्रीय हितों को नुकसान पहुंचाने वाले। इसलिए देश में एक और वर्ष के लिए बीबीसी के आवेदन स्वीकार नहीं किया जाएगा।

पैरा एथलेटिक्स में देवेंदर और निमिशा ने इंटरनेशनल वर्ल्ड ग्रांप्री (International World Grampari) में गोल्ड जीते

  • युवा पैरा एथलीट देवेंदर कुमार और निमिशा सुरेश (Nimisha Suresh) ने 12वीं फैजा इंटरनेशनल वर्ल्ड पैरा एथलेटिक्स ग्रांप्री (Fazza International World Para Athletics Grand Prix) में गोल्ड मेडल जीते है।
  • देवेंदर ने डिस्कस थ्रो एफ-44 इवेंट में 50.61 मीटर थ्रो कर पहला स्थान हासिल किया।
  • इसी इवेंट में भारत के प्रदीप को 41.77 मीटर की थ्रो के साथ सिल्वर मिला। बेलारूस के दिमित्री ने ब्रॉन्ज जीता।
  • जबकि निमिशा ने लॉन्ग जंप एफ46/47 इवेंट में 5.25 मीटर जंप किया। यह निमिशा का पहला इंटरनेशनल टूर्नामेंट है।
  • भारत के प्रणव देसाई ने 100 मीटर टी-64 इवेंट में सिल्वर, विनोद कुमार ने डिस्कस थ्रो एफ-54 में ब्रॉन्ज, रक्षिता राजू ने 1500 मीटर टी-22 में ब्रॉन्ज जीता।

शूटिंग में एलावेनिल ने नेशनल सेलेक्शन ट्रायल्स में 10 मी एयर राइफल का वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया

  • 10 मीटर एयर राइफल (10 metre Air Rifle) में दुनिया की नंबर-1 शूटर एलावेनिल वलारिवान (Elavenil Valarivan) ने वर्ल्ड रिकॉर्ड (World Record) बनाया है।
  • उन्होंने अपूर्वी चंदेला का रिकॉर्ड तोड़ा। तीसरे सेलेक्शन ट्रायल्स में एलावेनिल ने 253 स्कोर किया।
  • अपूर्वी ने दो साल पहले वर्ल्ड कप में 252.9 का स्कोर किया था। अपूर्वी टोक्यो ओलिंपिक का कोटा दिला चुकी हैं।
  • हाल ही में दिव्यांश सिंह पंवार ने 10 मीटर एयर राइफल फाइनल्स का वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया था।

अंतरराष्ट्रीय महिला वैज्ञानिक दिवस (International Day of Women and Girls in Science) : 11 फरवरी

  • दुनियाभर में प्रतिवर्ष 11 फरवरी को अंतरराष्ट्रीय महिला वैज्ञानिक दिवस (International Day of Women and Girls in Science) मनाया जाता है।
  • वर्ष 2021 की थीम ‘कोविड-19 के खिलाफ संघर्ष में अग्रणी महिला वैज्ञानिक (Women Scientists at the forefront of the fight against COVID-19)’ है।
  • हालांकि कोविड-19 (Covid-19) महामारी का महिला वैज्ञानिकों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा है। विशेष रुप से उन महिलाओं की जिनका करियर प्रारंभिक अवस्था में था। इस प्रकार महामारी के कारण विज्ञान में व्याप्त लैंगिक अंतराल और बढ़ गया है।
  • इसलिए ऐसे समय में विज्ञान जगत में महिलाओं और लड़कियों की भूमिका को बढ़ाने के लिए नीतियों, पहलों और वर्तमान तंत्र को संबोधित करने की आवश्यकता है। इसी क्रम में इस साल की थीम कोविड-19 महामारी के अनुरूप रखी गई है।
  • विज्ञान और तकनीकी क्षेत्र में महिलाओं की सशक्त भूमिका सुनिश्चित करने के साथ-साथ लैंगिक सशक्तीकरण को बढ़ाने के लिए संयुक्त राष्ट्र महासभा (United Nations General Assembly) ने 22 दिसंबर 2015 को इस दिवस को मनाने की घोषणा की थी।
  • इस दिवस को यूनेस्को और संयुक्त राष्ट्र महिला संघ (यूएन वूमेन) के द्वारा संयुक्त रूप से मनाया जाता है।

विश्व यूनानी दिवस (World Unani Day) : 11 फरवरी

  • महान यूनानी शोधकर्त्ता हकीम अज़मल खान (Hakim Ajmal Khan) का जन्म दिवस प्रतिवर्ष 11 फरवरी को यूनानी दिवस (World Unani Day) के रूप में मनाया जाता है।
  • हकीम अज़मल खान (Hakim Ajmal Khan) एक प्रतिष्ठित भारतीय यूनानी चिकित्सक थे जो एक स्वतंत्रता सेनानी, शिक्षाविद् और यूनानी चिकित्सा में वैज्ञानिक अनुसंधान के संस्थापक भी थे।
  • हकीम अज़मल खान ने 1921 में कॉन्ग्रेस के अहमदाबाद अधिवेशन की अध्यक्षता भी की थी।
  • सर्वप्रथम 2017 में केंद्रीय यूनानी चिकित्सा अनुसंधान संस्थान (Central Research Institute of Unani Medicine-CRIUM), हैदराबाद में विश्व यूनानी दिवस का आयोजन किया गया था।
  • यूनानी चिकित्सा पद्धति का उद्भव व विकास यूनान में हुआ।
  • भारत में यूनानी चिकित्सा पद्धति अरबी लोगों से पहुंची और यहां के प्राकृतिक वातावरण एवं अनुकूल परिस्थितियों की वज़ह से इस पद्धति का बहुत विकास हुआ।
  • भारत में यूनानी चिकित्सा पद्धति के महान चिकित्सक और समर्थक हकीम अज़मल खान (1868-1927) ने इस पद्धति के प्रचार-प्रसार में महत्त्वपूर्ण योगदान दिया।
  • इस पद्धति के मूल सिद्धांतों के अनुसार, रोग शरीर की एक प्राकृतिक प्रक्रिया है। शरीर में रोग उत्पन्न होने पर रोग के लक्षण शरीर की प्रतिक्रिया के परिणामस्वरूप उत्पन्न होते हैं।

Leave a Reply